Mukhyamantri Bal Shramik Vidya Yojana Apply Online कैसे करें | उत्तर प्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना 2022

Mukhyamantri Bal Shramik Vidya Yojana Apply Online : यूपी सरकार ने हाल ही में बाल श्रम से जुड़े बच्‍चों का बचपन शिक्षा से संवारने के उद्देश्य से UP Bal Shramik Vidya Yojana की शुरूआत की है।

श्रमिक विद्या योजना यूपी के तहत प्रदेश के ऐसे बच्‍चों को बाल श्रम के मकड़जाल से निकाल कर स्‍कूल भेजा जायेगा। जो चंद पैसों की खातिर मजबूरी में शिक्षा जैसी मूल्‍यवान जरूरत से दूर हैं।

इस योजना की शुरूआत 12 जून 2022 को की गयी थी। योजना के तहत बाल श्रम से मुक्‍त कराये गये बच्‍चों को स्‍कूल में एडमीशन लेने पर आर्थिक सहायता दी जाती है। यह सहायता लड़कों को 1 हजार रूपये माहवार तथा लड़कियों को 12 सौ रूपये माहवार दी जाती है।

आज की इस पोस्‍ट में हम आपको Child labour assistance education scheme | Education Scheme for Child Labour | UP Bal Shramik Vidya Yojana Registration | मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना ऑनलाइन आवेदन 2022 | उत्तर प्रदेश बाल श्रमिक स्कीम पंजीकरण | Shramik Vidya Yojana के बारे में जरूरी जानकारी देने जा रहे हैं। आशा करते हैं कि यह जानकारी आपके लिये Helpful साबित होगी।

Contents

Mukhyamantri Bal Shramik Vidya Yojana का उद्देश्य क्‍या है

Bal Shramik Vidya Yojana in Hindi
बाल मजदूरों के लिये बाल श्रमिक विद्या योजना की पूरी जानकारी

Bal Shramik Vidya Yojana Objective : यूपी बाल श्रमिक विद्या योजना का मुख्‍य उद्देश्य बाल श्रम में लगे बच्‍चों का चिन्‍हीकरण करके उन्‍हें बाल श्रम से बाहर निकाल कर स्‍कूल भेज कर शिक्षा अध्‍ययन करने को प्रोत्‍साहित करना है।

श्रमिक विद्या योजना के तहत यूपी सरकार बाल श्रमिकों को चाय के होटलों, चिकन शॉप, ढाबों, संगठित व असंगठित क्षेत्र के कल कारखानों से बाहर निकालेगी। जिसके बाद उन्‍हें आमदनी में जो नुकसान होगा, उसकी क्षतिपूर्ति यूपी सरकार के द्धारा की जायेगी।

UP Bal Shramik Vidya Yojana के मुख्‍य बिंदू एक नजर में

  • योजना का नाम – Bal Shramik Vidya Yojana
  • लागू करने वाला राज्‍य – उत्‍तरप्रदेश
  • किसने लागू की – मुख्‍यमंत्री आदित्‍यनाथ ने
  • कब लागू हुई – 12 जून 2022
  • योजना का कार्यक्षेत्र – वर्ष 2022 से पूरा यूपी
  • आधिकारिक वेबसाइट – http://bsvy.in/
  • लाभार्थी वर्ग – प्रदेश के गरीब परिवारों के लड़के लड़कियां जो बाल श्रम कर रहे हैं।

Bal Shramik Vidya Yojana UP के लाभ

  • बाल श्रमिक विद्या योजना लागू हो जाने से ऐसे बच्‍चे जो मजबूरी में चाय के होटलों में काम करने को मजबूर हैं, उन्‍हें स्‍कूल में पढ़ने का मौका हासिल होगा।
  • यह योजना बाल श्रम जैसे अनैतिक कार्य का दमन करने में अपना योगदान देगी।
  • बाल श्रम से जुड़े बच्‍चों को काम छोड़ने पर जो आर्थिक नुकसान होगा, उसकी भरपाई सरकार के द्धारा की जायेगी।
  • आठ से 18 साल आयु वर्ग के सभी बच्‍चों को बाल श्रम से मुक्‍त कराया जायेगा।
  • योजना के तहत अभिभावकों के अलावा समाज का कोई भी व्‍यक्ति किसी भी बच्‍चे को इस योजना के दायरे में लाकर उसे वित्‍तीय लाभ पहुंचा सकता है।
  • अपने प्रतिष्‍ठानों में बच्‍चों से काम करवाने वाले लोगों पर कार्यवाही होने से बाल श्रम पर अंकुश लगेगा।
  • Also Read :
  • सैलरी स्लिप चेक कैसे करें?
  • CSC डिजिटल सेवा केंद्र के लिये आवेदन कैसे करें?
  • एमपी बोर्ड अंकपत्र में संशोधन कैसे करवाया जाता है?

Eligibility Criteria for UP Bal Shramik Vidya Yojana

UP Bal Shramik Vidya Yojana के तहत ऐसे बच्‍चों को सर्वोच्‍च प्राथमिकता दी जायेगी, जिनके माता तथा पिता दोनों ही स्‍वर्गवासी हो चुके हैं तथा परिवार की जिम्‍मेदारी बच्‍चों पर आ पड़ी है।

द्धितीय प्राथमिकता उन बच्‍चों को दी जायेगी जिनके पिता की मृत्‍यू हो चुकी है, वह कम आयु के नाबालिग बच्‍चे परिवार को आर्थिक मदत पहुंचाने के उद्देश्य से बाल श्रमिक के रूप में काम कर रहे हैं।

तीसरी प्राथमिकता उन बच्‍चों को दी जायेगी जिनके माता पिता दोनों की दिव्‍यांग हैं और बच्‍चों को बाल श्रम करके पैसा कमाना पड़ रहा है।

चौथी प्राथमिकता उन बच्‍चों को दी जायेगी जिनके माता पिता दोनों ही गंभीर व लाइलाज बीमारी से ग्रसित हैं तथा बच्‍चों को चाय के होटल, ढाबों आदि पर काम करके पैसा कमाना पड़ रहा है।

पांचवी प्राथमिकता उन बच्‍चों को दी जायेगी जिनके पिता पूरी तरह दिव्‍यांग हैं तथा बच्‍चों को घर परिवार चलाने की खातिर बाल श्रमिक के रूप में काम करना पड़ रहा है।

छठी प्राथमिकता उन बच्‍चों को दी जायेगी जिनके पिता किसी लाइलाज किस्‍म की बीमारी से जूझ रहे हैं व नाबालिग बच्‍चों को घर खर्च की जुगाड़ करने के लिये बाल श्रम करना पड़ रहा है।

सातवीं प्राथमिकता उन बच्‍चों की दी जाती है जिनके परिवार से पिता का साया उठ गया हो और परिवार के मुखिया की जिम्‍मेदारी महिला के कंधों पर आन पड़ी हो। ऐसे परिवारों के बच्‍चों को यदि बाल श्रम करना पड़ रहा है तो उन्‍हें सातवीं पात्र प्राथमिकता पर रखा जाता है।

आठवीं प्राथमिकता उन बच्‍चों की दी जाती है, जिनके परिवार में माता की मृत्‍यू हो गयी हो अथवा माता दिव्‍यांग हो, व बच्‍चों को घर चलाने में मदत पहुंचाने के लिये बाल श्रम करने को मजबूर होना पड़ रहा हो।

नवीं प्राथमिकता उन बच्‍चों को मिलती है जो भूमिहीन परिवार से आते हैं व नाबालिग बच्‍चों को ढाबों, ईंट भटटा अथवा कृषि कार्य में मजदूरी करके पैसे कमाने पड़ रहे हैं।

यूपी मुख्‍यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना का लाभ कब मिलता है

यूपी मुख्‍यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना 2022 का लाभ प्रदेश के 08-18 वर्ष आयु के बच्‍चों को तब मिलता है, जब श्रम विभाग के सर्वेक्षण अथवा निरीक्षण में नाबालिग बच्‍चा बाल श्रमिक करते पाया जाता है और श्रम विभाग के द्धारा उसका चिन्‍हीकरण बाल श्रमिक के रूप में हुआ हो।

यूपी Bal Shramik Vidya Yojana के तहत कितनी धनराशि क्षतिपूर्ति के रूप में प्राप्‍त होती है

UP Child labour Education Scheme के तहत यूपी के श्रम विभाग के द्धारा निम्‍न दर से आर्थिक सहायता बाल श्रम से मुक्‍त हुये बच्‍चों के स्‍कूल जाकर पढ़ाई करने पर प्राप्‍त होती है।

  • लड़कों को – 1000 रूपये महीना
  • लड़कियों को – 1200 रूपये महीना
  • इसके अलावा Class 8, 9, 10 तक की शिक्षा प्राप्‍त करते हैं तो उन्‍हें प्रत्‍येक कक्षा Pass करने पर 6000 रूपये की अतिरिक्‍त प्रोत्‍साहन राशि प्रदान की जाती है। जो इस योजना को और अधिक आकर्षक बनाती र्है।

बाल श्रमिक योजना के तहत किन कामों से जुड़े बच्‍चे लाभार्थी होंगें

  • चाय की होटलों पर काम करने वाले बच्‍चे
  • ढाबों पर काम करने वाले बच्‍चे
  • पटाखा फैक्‍ट्री में बाल श्रम कर रहे बच्‍चे
  • ईंट भटटा उद्योग में काम करने वाले बच्‍चे
  • कृषि कार्य करने वाले बच्‍चे
  • गैर कृषि कार्य करने वाले बच्‍चे
  • स्‍वरोजगार करने वाले बच्‍चे (जिनकी उम्र 8-18 साल है)
  • घरेलू प्रतिष्‍ठान में पढ़ाई छोड़ कर श्रम करने वाले बच्‍चे

क्‍या यूपी में बाल श्रम अपराध है?

जी हां, उत्‍तर प्रदेश में बाल श्रम अन्‍य राज्‍यों की तरह अपराध माना जाता है।

उत्‍तर प्रदेश श्रमिक विद्या योजना का संचालन किस प्रकार होगा

  • Bal Shramik Vidya Yojana के तहत बच्‍चों का चयन लाभार्थी के रूप में अंतिम चयन / आच्‍छादन संबंधित जिले के सहायक श्रम आयुक्‍त / श्रम प्रवर्तन अधिकारी की रिकमंडेशन पर क्षेत्रीय अपर / उप श्रम आयुक्‍त के द्धारा किया जायेगा।
  • यूपी श्रमिक विद्या योजना के तहत सभी प्रकार की वित्‍तीय स्‍वीकृति का अधिकार क्षेत्रीय अपर / उप श्रम आयुक्‍त का होगा।
  • योजना के तहत सभी प्रकार के वित्‍तीय लाभ / धनराशि मुख्‍यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना के लाभार्थियों के बैंक खातों में सीधे ट्रांसफर की जायेगी।

मुख्‍यमंत्री Bal Shramik Vidya Yojana UP के लिये आवश्‍यक दस्‍तावेज

  • आधार कार्ड
  • बैंक खाता पासबुक की छाया प्रति
  • पासपोर्ट साइज 2 फोटो
  • मोबाइल नंबर

यूपी बाल श्रमिक विद्या योजना में आवेदन कैसे करें

Mukhyamantri Bal Shramik Vidya Yojana Apply Online Kaise Kare : यदि आप बाल श्रमिक विद्या योजना के तहत बाल श्रमिकों को स्‍कूल भेजना चाहते हैं तो इसके लिये आपको bsvy.in पोर्टल पर ऑनलाइन फार्म भर कर आवेदन करना होगा।

Mukhyamantri Bal Shramik Vidya Yojana Form Process

  • इसमें आपको आवेदक का नाम भरना है
  • यूजर आईडी के रूप में अपना मोबाइल नंबर डालें
  • पासवर्ड क्रियेट करें
  • पासवर्ड री इंटर करें
  • यूजर बनायें पर क्लिक करें
  • इतना करते ही आप इस पोर्टल पर रजिस्‍ट्रेशन प्रक्रिया पूरी कर लेते हैं।
  • दोबारा लॉग इन करने के बाद आपको बाल श्रमिक विद्या योजना ऑनलाइन फार्म खुल जाता है।
  • इस फार्म में पूछी गयी सभी जान‍कारियां आपको सही सही भरनी है।
  • इसके बाद फोटो तथा अन्‍य दस्‍तावेज की स्‍कैन कॉपी अपलोड करनी हैं।
  • अंत में आपको फार्म सबमिट कर देना है।
  • इस तरह आप सफलतापूर्वक योजना में Apply कर लेते हैं।

बाल श्रमिक विद्या योजना यूपी में आवेदन करने के बाद क्‍या होता है

एक बार आप जब अपना फार्म सफलतापूर्वक सबमिट कर देते हैं, तो उसके बाद आपके आवेदन पत्र को जांच प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। जांच में भौतिक व स्‍थलीय सत्‍यापन किया जाता है। जांच में बाल श्रमिक बच्‍चा यदि पात्र पाया जाता है तो उसे योजना का लाभ प्रदान कर दिया जाता है।

क्‍या बाल श्रमिक विद्या योजना लाभार्थियों के परिवारों को अन्‍य योजनाओं का लाभ भी मिलता है

ऐसे बाल मजदूर जो किसी कारणवश बाल श्रम जैसे घिनौने कार्य में संलंग्‍न थे और उनका चिन्‍हीकरण करके स्‍कूल भेजा गया है। तथा उन्‍हें यूपी बाल श्रमिक विद्या योजना के तहत लाभार्थी घोषित करके सरकार द्धारा वित्‍तीय सहायता प्रदान की जा रही है, ऐसे बच्‍चों के परिवारों को निम्‍न योजनाओं का भी लाभ प्रदान किया जाता है।

1 – दिव्‍यांग पेंशन

2 – वृद्धावस्‍था पेंशन योजना

3 – विधवा पेंशन योजना

4 – राष्‍ट्रीय खाद्ध सुरक्षा योजना के सभी लाभ

5 – अटल पेंशन योजना

6 – आम आदमी बीमा योजना

7 – प्रधानमंत्री आवास योजना

8 – प्रदेश के विभिन्‍न विभागों द्धारा चलाई जा रहीं प्री मैट्रि‍क व पोस्‍ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना

FAQ – यूपी मुख्‍यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना से संबंधित अक्‍सर पूछे जाने वाले सवाल

Bal Shramik Vidya Yojana Helpline Number क्‍या है?

UP Bal Shramik Vidya Yojana Helpline Number – 18001805160

क्‍या योजना के लाभार्थी बच्‍चे का स्‍कूल में जाकर शिक्षा हासिल करना अनिवार्य है?

जी हां, यूपी श्रमिक विद्या योजना के लाभार्थी बाल श्रमिक को स्‍कूल में कम से कम 70% उपस्थिति दर्ज करवाना अनिवार्य है।

यदि लाभार्थी बच्‍चा स्‍कूल नहीं जा रहा है तो क्‍या होगा?

स्‍कूल न जाने वाले लाभार्थी बच्‍चे को दी जाने वाली वित्‍तीय सहायता तत्‍काल प्रभाव से रोक दी जायेगी। साथ ही उसके परिवार के अन्‍य सदस्‍यों को योजना के तहत अन्‍य योजनाओं का लाभ मिलने से वंचित कर दिया जायेगा।

क्‍या बाल श्रम अपराध है व इससे क्‍यों बचना चाहिये?

बाल एवं किशोर श्रम (प्रतिषेध एवं विनियमन) अधिनियम 1986 यथा संशोधित 2016 के अनुसार 14‍ साल तक के बच्‍चों से किसी प्रकार का काम करवाना पूरी तरह गैरकानूनी है। साथ ही 14-18 साल तक की आयु के बच्‍चों से खतरनाक व्‍यवसायों एवं प्रक्रियाओं में काम करवाना पूरी तरह प्रतिबंधित है। बाल श्रम एक अभिशाप होने के साथ साथ अनैतिक कृत्‍य भी है, इसलिये बाल श्रम करवाने से सभी को बचना चाहिये।

बाल श्रम करवाने पर दंड का प्रावधान क्‍या है?

यदि कोई व्‍यक्ति / नियोक्‍ता / दुकानदार नाबालिग बच्‍चों से बाल मजदूरी का कार्य करवाता है तो उसे कम से कम 6 माह व अधिकतम 2 साल का कारावास तथा न्‍यूनतम 20 हजार रूपये जुर्माना एवं अधिकतम 50 हजार रूपये जुर्माना अथवा दोनों हो सकते हैं।

यदि माता पिता भी जान बूझकर अपने बच्‍चों से पैसा कमाने के लिये बाल श्रम करवा रहे हैं तो उन पर भी 10 हजार रूपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।

मुख्‍यमंत्री श्रमिक विद्या योजना के तहत लाभार्थी बच्‍चों को किन Schools में Admission लेना होगा?

इस योजना के लाभार्थी बच्‍चों को प्राथमिकता के आधार पर Government Schools में Admission लेना होगा। यदि 1 किलोमीटर के दायरे में कोई भी सरकारी स्‍कूल नहीं है तो वह बेसिक शिक्षा अधिकारी की संस्‍तुति पर किसी भी प्राइवेट मान्‍यता प्राप्‍त स्‍कूल में प्रवेश ले सकते हैं।

Bal Shramik Vidya Yojana का लाभ बाल श्रमिक को कब तक मिलेगा?

बाल श्रमिक बच्‍चे को योजना का लाभ कक्षा 10वीं उत्‍तीर्णं करने तक मिलेगा। इसके बाद उसे इस योजना से मुक्‍त कर दिया जायेगा।

तो दोस्‍तों यह थी हमारी आज की पोस्‍ट Mukhyamantri Bal Shramik Vidya Yojana Apply Online Kaise Kare यदि आप Shramik Vidya Yojana Online Application Form आदि के विषय में कोई अन्‍य प्रश्‍न पूछना चाहते हैं तो आप हमसें कमेंट बॉक्‍स के जरिये पूछ सकते हैं।

Spread the love

1 thought on “Mukhyamantri Bal Shramik Vidya Yojana Apply Online कैसे करें | उत्तर प्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना 2022”

  1. यूपी सरकार की बाल मजदूरों के लिए बेहतरीन योजना है

    Reply

Leave a Comment